NMH Blogs

Importance of 2 October |Gandhi Jayanti | Lal Bahadur Shastri Jayanti

Category : Event | Sub Category : national holiday Posted on 26 Sep 2020


Importance of 2 October |Gandhi Jayanti | Lal Bahadur Shastri Jayanti

2 अक्टूबर का दिन भारतीय इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण दिन हे, क्योकि इसी दिन भारत देश की दो महान हस्तियों का जन्म हुआ था जिनमे से एक महापुरुष हमारे बापू महात्मा गाँधी जी और दूसरे थे लाल बहादुर शास्त्री जी इसी तरह और भी बहुत से ऐसे कारण हे जिनकी वजह से 2 अक्टूबर का दिन सबसे महत्वपूर्ण दिन हे।

महात्मा गाँधी जी का जन्म

2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में मोहन दास करमचंद गाँधी का जन्म  हुआ था, गाँधी जी के पिता का नाम करम चंद गाँधी और माता का नाम पुतली बाई था। भारत देश में महात्मा गाँधी जी को बापू नाम से जाना जाता हे।

लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म

2 अक्टूबर 1904 को भारत देश के द्वितीय प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म मुगलसराय में हुआ था, लाल बहादुर शास्त्री की माता का नाम राम दुलारी और पिता का नाम शारदा प्रसाद श्रीवास्तव था, जो की शिक्षक थे। 1964 में श्री लाल बहादुर शास्त्री देश के द्वितीय प्रधान मंत्री बने।

भारतीय जन संघ की स्थापना

2 अक्टूबर 1951 को श्री श्यामा प्रसन जी ने भारतीय जन संघ की स्थापना की। भारतीय जनसंघ भारत का एक पुराना राजनैतिक दल था जो की 1980 में टूट गया।

समुदायक विकास क्रम की स्थापना

2 अक्टूबर 1952 को समुदायक विकास क्रम की स्थापना की गयी, कई पंचायतों को मिला कर एक विकास खंड होता है इसका मुख्यालय सामुदायिक विकास केन्द्र कहलाता है। एक जिले में कई सामुदायिक विकास केन्द्र होते हैं। सामुदायिक विकास कार्यक्रम के उद्देश्य इतने व्यापक है कि इनकी कोई निश्चित सूची बना सकना एक कठिन कार्य है।

रेल के डिब्बे का निर्माण

इंटीग्रल कोच फैक्ट्री पेरम्बूर, चेन्नई, तमिलनाडु, भारत में स्थित रेल कोचों का निर्माता है, इसकी स्थापना सन् 1952 में की गयी थी। 2 अक्टूबर 1955 में इंटीग्रल कोच फैक्ट्री ने रेल के पहले डिब्बे का निर्माण किया था।

शिपिंग कारपोरेशन की स्थापना

2 अक्टूबर 1961 में मुंबई में शिपिंग कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया की स्थापना की गयी, शिपिंग कॉरपोरेशन ऑफ़ इंडिया मुंबई, महाराष्ट्र, भारत में अपने मुख्यालय के साथ भारत सरकार का सार्वजनिक उपक्रम है, जो राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों लाइनों का संचालन करने वाले जहाजों का संचालन और प्रबंधन करता है।

दहेज़ निषेध संशोधन नियम लागू

2 अक्टूबर 1985 में भारत देश में दहेज़ निषेध संशोधन नियम लागू किया गया। भविष्य में होने वाले कानूनी पचड़ों से बचने के लिए दहेज निषेध अधिनियम 1985 (वर-वधू द्वारा प्राप्त तोहफे की सूची तैयार करना) में यह प्राविधान है कि वधू तथा वर द्वारा प्राप्त तोहफे को दोनों द्वारा लिखित दर्ज किया जाए।

परमाणु ईंधन आपूर्ति

2 अक्टूबर 2006 में परमाणु ईंधन आपूर्ति मामले में दक्षिण अफ्रीका ने भारत देश को समर्थन देने का फैसला किया।

Leave a Comment: